राैतहट , साअाेन ७ । राष्ट्रिय जनता पार्टीके केन्द्रीय अध्यक्ष मण्डलके सदस्य और राज्य व्यवस्था आ सुशासन समितिके सदस्य राजेन्द्र महतो कहलन चूरे दोहन नियन्त्रण नहोए तक मधेश मरुभुमि बनलरहि बतएलन । दाहरसे प्रभावित भेल रौतहट जिल्लाके स्थलगत निरिक्षण करे सत्तारुढ दल सहित रौतहट आएल सांसद महतो चूरे संरक्षण नहोएके कारण मधेश डुवानमे डुबलरहेके पहिल प्राथमिकता चूरे संरक्षणमे राज्य व्यवस्था पहिला दायित्व रहल बतैले छत । मोरंगसे लेके पर्सा तक निकलल ४ सदस्य सब आइतबार रौतहटके प्रभावित क्षेत्र के स्थल अनुगमनके बाद सोमबार सबेरे गौरमे पत्रकार सम्मेलन आयोजना करके सांसद महतो बिपत परल समयमे रौतहटमे संघीय सरकारके राहत नपुगला पर दुख व्यक्त कएलन । भारत सरकार नेपाल निमार्ण कएल लालबकैया आ बागमती नदीके तटबधके संघीय सरकार मरमतके समयमे ध्यान नदेलाके कारणसे रौतहट जलमग्न होएल महतोके भनाइ रहल । तराइके जिल्लासब मुखय तिनगो कारणसे बेरबेर परइत आरहल जिकर कएलन । पूवै मंत्री महतो पहिले चूरे संरक्षण,दोसर प्राकृतिक नदीके बहाव नियंत्रण नभेलासे खा तिसर रस्ता बनइत के कारण निकास साथे अबैध उत्खन रहल हए । नदीमे मापदंड विपरित पथल,गिटि निकासि करके उत्खन करलाके कारण जोखिम बढल हुनकर दाबि कैएलन । चूरे संरक्षण नभए मधेश मरुभूमि हुने सांसद महतो पराज्य व्यवस्था समितिके नातासे निरिक्षण करइत समयमे राहत उदार करइत पानि खाएवाला समान समयमे पुगे नसकल । पूर्व मंत्री महतो अभि तक बाटलसब राहतके सही विबरण नरहल बतएलन । महतो कहलन भारतके बाहनके कारण रौतहट डुवानमे परल बात हद तक कपोलकल्पित रहल दाबी कएलन । हुन कहलन अपन दायित्व ननिभावेके आ दोसरके उपर बिना मतलबके गलत अरोप लगवलाके उपर टीपण्णी कएन। पूर्व मंत्री महतो नेपाल सरकारके निकाल्ल लोक सेवा आयोगके विज्ञापन कौनो हालतमे स्वीकार नकरेके दाबि दाबि कएलन । लोकतन्त्र,संघीयता, समानुपातिक सिद्धंतके लोक सेवा आयोगके धजिया उठएले मधेशी जनताके विभेदकारि लोकसभाके विज्ञापनके कौनो भी हालमे स्वीकार नकरेके दावी कएलन । हुन दाहर बाद संघीय सरकारके जनता अगारि, पीडिके अगारि काम नकएले कहइत सांसद महतो प्रादेशिक सरकार अपन दायित्व पुरा नकएले आरोप लगएलन । नेता महतो राहत वितरण कएलाके बाद भि तथ्यांक नरहल जिल्ला विपद व्यवस्थापन समितिके निष्क्रियता रहल पुस्टि होरहल राहत वितरण एकजुट होएला जोर देलन । महतो भारत सरकारके निर्माणमे रहल बांधमे भि निस्कानके विषयमे नेपाल सरकारके कूटनीतिक स्तरसे स्थायी समाधान खोजेला कहलन ।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments